मॉनसून के समय इंटिमेट हाइजीन की कमी दे सकती है खतरनाक इन्फेक्शन

by | Jul 20, 2020 | Health, Self Care | 0 comments

मॉनसून के आते ही सेल्फ केयर की आवश्यकता बढ़ जाती है। क्योंकि ये समय बीमारियों का होता है। कब कौन-सा इन्फेक्शन आप पर हमला कर दे, कह नहीं सकते। स्किन इन्फेक्शन बारिश में सबसे ज़्यादा देखा जाता है। इसी तरह बारिश के मौसम में इंटिमेट हाइजीन भी एक बड़ी आवश्यकता है। क्योंकि महिलाएं अक्सर इस पर ध्यान नहीं दे पाती। इसके कारण यीस्ट इन्फेक्शन जैसे मामले बढ़ते जाते हैं। यही नहीं आप यूटीआई और अन्य तरह के इन्फेक्शन का शिकार भी हो सकती हैं। कहने को ये परेशानियां इतनी बड़ी नहीं हैं। लेकिन अगर ध्यान न दिया जाये तो ये अविश्वसनीय रूप से खतरनाक हो सकती हैं। आइये जानते हैं कि इनसे कैसे बचा जा सकता है।

अनदेखा न करें इंटिमेट हाइजीन को

गर्मी के आते ही हम पसीने से परेशान हो जाते हैं। फ्रेशनेस के लिए कम से कम 2-3 बार नहाते हैं। लेकिन बारिश में ऐसा होता नहीं है। बारिश में उमस वाली गर्मी ज़्यादा परेशान करती है। हर जगह नमी बनी रहती है। इसी नमी के चलते अक्सर प्राइवेट पार्ट्स में जलन, खुजली और दाद जैसे इन्फेक्शन हो सकते हैं। इसका कारण है इंटिमेट हाइजीन की अनदेखी। अगर आप इंटिमेट हाइजीन पर सही तरीके से ध्यान देंगे तो इस तरह की परेशानी होना काफी कम हो जाएगी। शरीर की सफाई के साथ आपको इंटिमेट हाइजीन को भी बनाये रखना चाहिए।

नियमित सफाई से बनाये रखें इंटिमेट हाइजीन

जी हां इंटिमेट हाइजीन को बनाये रखने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप रोज़ अच्छे से प्राइवेट पार्ट्स की सफाई करें। कोशिश करें कि आपके निजी अंग सूखे हों और नमी युक्त न हों। नहाते समय प्राइवेट पार्ट्स को पानी से अच्छे से साफ़ करें। साथ ही आप गीले कपड़े न पहनें। आपके इनर वियर भी एकदम सूखे हों। कई बार जल्दबाज़ी के चलते या लापरवाही के कारण लोग गीले इनर वियर पहन लेते हैं। इसके कारण फंगल इन्फेक्शन की परेशानी हो सकती है।

ज़्यादा तंग कपड़े पहनने से भी हो सकती है यीस्ट इन्फेक्शन की समस्या

बारिश में आपको ज़्यादा टाइट कपड़े पहनने से भी बचना चाहिए। इससे यीस्ट इन्फेक्शन होने की सम्भावना बढ़ती है। यीस्ट इन्फेक्शन अक्सर नमी होने और इंटिमेट हाइजीन नहीं रखने का परिणाम होता है। यीस्ट इन्फेक्शन के कारण आपको प्राइवेट पार्ट में बदबू, खुजली, जलन आदि का सामना करना पड़ता है। इसलिए इस समय सूती के ढीले कपड़े पहनना ही सही तरीका है।

यूटीआई के मामले बढ़ जाते हैं बारिश में

हर महिला अपने जीवन में एक न एक बार यूटीआई का शिकार होती है। यूटीआई मतलब यूरिनरी ट्रेक्ट इन्फेक्शन। यूटीआई भी कहीं न कहीं हाइजीन की कमी का ही परिणाम होता है। बारिश में इस तरह के इन्फेक्शन बढ़ जाते हैं। इसलिए ज़रुरी है कि यूटीआई से बचने के लिए आप इंटिमेट हाइजीन को बनाये रखिये।

इंटिमेट हाइजीन पर आधारित ये पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे शेयर कीजिये। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखिए और पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें।

सेल्फ केयर से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए हमारे हेल्थ सेक्शन को देखें। इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए निरोग दर्पण के वैजाइनल केयर और सेल्फ केयर सेक्शन को विज़िट करना न भूलें।