महिलाओं के लिए हो ख़ास सेविंग प्लान्स | Saving plans for women

by | Nov 5, 2018 | Finance, Lifestyle | 0 comments

आर्थिक स्वतंत्रता की अगर बात की जाये तो पुरुषों की तरह इस पर भी महिलाओं का समान अधिकार है। फिर क्या कारण है कि महिलाएं बचत के लिए सही से प्लान नहीं कर पाती हैं। यह भी होता है कि वह इसके लिए दूसरों पर निर्भर रहती हैं। आइये जानते हैं कि महिलाओं के लिए कैसे सेविंग्स प्लान उपलब्ध हैं (Saving Plans For Working Women)। खासकर घरेलू महिलाओं के लिए सेविंग प्लान्स किस तरह के हों (Saving Plans For Housewife)।

ऐसा नहीं है कि महिलाएं हिसाब-किताब या आर्थिक मामलों से अनभिज्ञ होती हैं। वह घर का बजट कितनी अच्छी तरह से मैनेज करती हैं। सीमित आय में परिवार के कितने खर्चे हैं जिन्हें महिलाएं समझदारी से संतुलित करके अपना घर चलाती हैं।

महिलाओं के लिए सेविंग प्लान्स (Saving Plans For Working Women)

हाउस वाइफ हो या कामकाजी महिला, वह यह जानती है कि उसे किस तरह से खर्च करना है। जब बात सेविंग प्लान की होती है तब महिला इसके लिए दूसरों पर निर्भर रहती है। यदि वह सोच-समझकर सेविंग प्लान बनाती है तो इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता।
वर्किंग वीमेन भी सेविंग प्लान करें

कामकाजी महिलाओं को तो शुरू से ही बचत करना चाहिए। कोई व्यक्ति कम उम्र में सेविंग प्लान अपनाता है तो उसे ज्यादा पैसा अलग से जमा नहीं करना पड़ता। क्योंकि कंपाउंडिंग की वजह से समय के साथ यह रकम बढ़ती जाती है। महिलाओं को मंथली इनकम में से 20-30% रकम हर महीने बचाना चाहिए। ऐसे ही हाउसवाइफ के लिए भी सेविंग प्लान्स होते हैं (Saving Plans For Housewife)।

इमरजेंसी सेविंग प्लानिंग भी जरुरी

महिलाओं को किसी अकस्मात दुर्घटना या बीमारी के लिए भी फंड तैयार रखना चाहिए। महिला इस तरह की बचत करती है तो उसे अपनी सेविंग में से पैसा नहीं निकालना पड़ेगा। महिलाओं को 6 महीने के खर्च के बराबर इमरजेंसी फंड बनाना चाहिए। मेडिकल कॉस्ट भी बहुत तेज़ी से बढ़ रही है तो महिलाओं को अपने लिए मेडिक्लैम पॉलिसी लेना चाहिए।

सेविंग प्लान्स फॉर हाउसवाइफ (Saving Plans For Housewife)

जोखिम उठाने से न डरें

महिलाएं अक्सर पैसों का जोखिम उठाने से डरती हैं। यही कारण है कि किसी सेविंग प्लान को वह जल्दी से नहीं अपनाती। एक अध्ययन के अनुसार महिलाएं अपने हर फाइनेंशियल डिसिज़न के लिए दूसरों के भरोसे रहती हैं। इससे उसका आत्मविश्वास कम होता है। सेविंग प्लान में जोखिम से बचने के लिए जो प्रवत्ति वह अपनाती हैं, उससे उनकी फाइनेंशियल स्टेबिलिटी ख़तरे में पड़ जाती है।

पति की सहयोगी बनें

महिलाएं समाज में बराबरी से रहकर आर्थिक स्तर पर काफी कुछ कर सकती हैं। ऐसे में जरुरी है कि वह पारिवारिक मोर्चे पर भी एक सशक्त किरदार को निभाए। पति के साथ मिलकर वह परिवार को एक मजबूत आधार देती ही हैं। आर्थिक स्वावलंबन के साथ बचत संबंधी कुछ योजनाओं पर भी अमल किया जाये तो स्थितियां बेहतर हो जाएंगी। एक महिला की प्रायोरिटी में दूसरों के अलावा खुद की भी फाइनेंशियल सिक्योरिटी होना चाहिए।

अपने बनाये बजट पर कायम रहें

पैसे को किसी भी प्लान में लगाने के लिए जरुरी है बजट का अनुशासन। कोशिश करें कि वह हर हाल में बना रहे। मान लीजिये आप बाज़ार में गईं और वहां आपको कोई चीज़ बहुत पसंद आ गई। वैसे एक या दो चीज़ तो हमें कभी पसंद आती ही नहीं है। तो मान लीजिये कि आपको बहुत सारी चीज़े पसंद आ गईं। फिर आप क्या कीजियेगा? वही कीजिये जो सही है। इन प्रलोभनों से बचना भी तो बहुत जरुरी है। वर्ना अपने बनाये गए बजट को भूलकर आप ढेर सारी शॉपिंग कर बैठेंगी। इससे आपका सारा बजट बिगड़ जायेगा।

यह बात भी सही है कि खरीदारी करके हमे अच्छा ही लगता है। लेकिन हमें लॉन्ग टर्म फाइनेंशियल सिक्योरिटी को अनदेखा नहीं करना चाहिए। यदि आप शादीशुदा न हों तो भी आपको भविष्य में पैसों की जरुरत तो होगी ही।  इसके अलावा महीने के अर्थहीन खर्चों को कम कीजिये। प्रयास कीजिये कि आप पैसा बचा सकें। इसी तरह क्रेडिट कार्ड से खरीदारी करने से भी बचिए। क्योंकि इससे की गयी खरीदारी एक लोन की तरह से होती है। इसे आपको जल्दी चुकाना पड़ता है।

ध्यान में रखने योग्य अन्य बातें

रेकरिंग या पीपीएफ अकाउंट में पैसा जमा करने से स्टेबिलिटी मिलती है। लेकिन इसमें बहुत ज्यादा रिटर्न की गुंजाइश नहीं होती है। विशेषज्ञ कहते हैं कि महिलाओं में सोने को लेकर बहुत क्रेज होता है, इसे अच्छा इन्वेस्टमेंट माना जाता है। आपको जानकर यह आश्चर्य होगा कि लॉकर में सहेजा सोना भी एक सुरक्षित इन्वेस्टमेंट नहीं है। इसके बदले महिलाओं को दूसरी फाइनेंशियल एसेट्स के बारे में सोचना चाहिए। घरेलू महिलाओं के लिए इस तरह के सेविंग प्लान्स (Saving Plans For Housewife) बहुत मददगार होते हैं।

इस तरह से महिलाएं छोटी-छोटी बचत को एक सुरक्षित प्लान के द्वारा बड़ी बचत में बदल सकती हैं। अपने भविष्य को सुरक्षित रखना बहुत जरुरी है। इसलिए महिलाओं के लिए सेविंग प्लान (Saving Plans For Working Women) बहुत ज़रूरी होता है।

महिलाओं के बचत पर आधारित यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे शेयर ज़रूर करें। नीचे दिए कमेंट सेक्शन में अपने व्यू लिखें और इस पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें। फाइनेंस से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए हमारे लाइफस्टाइल सेक्शन को देखना न भूलें।