मनी सेविंग टिप्स ख़ास हाउसवाइफ के लिए

by | Aug 30, 2019 | Finance, Lifestyle | 0 comments

फाइनेंस से जुड़ी परिस्थितियां सभी के लिए एक परिवर्तन लाती है। फिर वह एक व्यक्ति हो या परिवार, सभी पर इसका प्रभाव होता है। अब हम आपको लिए चलते हैं कुछ मनी सेविंग टिप्स की ओर। जी हां यहां कुछ ऐसे आइडियाज़ मौजूद हैं जो आपकी बचत में मदद करेंगे। ख़ासतौर पर एक हाउसवाइफ के लिए यह बहुत मददगार होगा। तो आप भी होम बजट से जुड़े ये टिप्स जान लीजिये।

मनी सेविंग टिप्स से मिलता है आर्थिक आधार

देखा जाता है कि हाउसवाइफ अपने घर के खर्चों में कटौती करते हुए थोड़े पैसे बचा लेती हैं। धीरे-धीरे वह अल्प बचत एक बड़ी राशि बन जाती है। इस तरह की मनी सेविंग टिप्स बहुत फायदेमंद होती है आपके लिए। यह किसी शुभ अवसर या आकस्मिक खर्चे या आपत्ति-विपत्ति में बहुत ही कीमती प्रतीत होती है। यहां पैसे बचाने का अर्थ आप कंजूसी से मत निकालिएगा। मनी सेविंग टिप्स हर घर की एक ज़रूरत है।

खर्चों को मैनेज करना मनी सेविंग टिप्स का सबसे अच्छा उपाय है

यदि हम अपने खर्चों पर गौर करें तो पाएंगे कि हर महीने हम बहुत बार अनावश्यक खर्च कर देते हैं। जबकि कुछ सावधानियां बरतने से आसानी से बचत हो सकती है। इन सबमें हाउसवाइफ की बहुत बड़ी भूमिका होती है। यदि हम रोज़ के खर्चों की सूची अलग और आकस्मिक खर्चों की सूची अलग बना लें तो अच्छा होता है। साथ ही आगामी खर्चों को अलग रखने से हमे अपने खर्चों का अंदाज़ हो जाता है। इस अंदाज़ के सहारे फिजूलखर्ची से बचा जा सकता है।

होम बजट की एक सूची बनाएं

हर बार तनख्वाह के मिलने पर होम बजट की एक लिस्ट तैयार करें। सारे सामान की सूची बनाकर एक बार में ही पूरे महीने का सामान खरीद लाएं। बार-बार बाज़ार जाने पर पेट्रोल का खर्चा बढ़ता है। साथ ही इससे आपका होम बजट गड़बड़ा जाता है। इसके अलावा आपका नाहक होने वाला खर्च कम हो जाता है।

हाउसवाइफ बाज़ार को मूड फ्रेश करने का साधन न समझें

कभी-कभी हाउसवाइफ शॉपिंग करने का शौक पाल लेती हैं। अनुपयोगी सामान घर में स्टोर कर घर को स्टोररूम ही बना डालती हैं। यदि समय पास करना है, मूड फ्रेश करना है तो उस समय आप अच्छी पुस्तकें पढ़ सकती हैं। पढ़ने-लिखने या रचनात्मक कार्यों में समय लगा सकती हैं। वैसे भी हाउसवाइफ के सिर पर घर को संभालने की बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी होती है।

अपने हुनर का उपयोग करें

यदि हाउसवाइफ किसी रचनात्मक कार्य या गृहकार्य में माहिर है तो उसे अपनी आय का ज़रिया बना सकती है। उसे अलग से जमा करते हुए होम बजट में जमा कर सकती है।

बचत के साधन जुटा लें

यदि आप आर्थिक रूप से सक्षम हैं इतने कि एक वाशिंग मशीन खरीद सकते हैं तो अवश्य खरीद लें। ताकि धोबी पर हर महीने खर्च होने वाला पैसा भी बचेगा साथ ही साबुन भी कम लगेगा। ऐसे ही कुछ और मनी सेविंग टिप्स आप प्रयोग कर सकती हैं। छोटे-छोटे कपड़े घर पर स्वयं ही प्रेस कर सकती हैं। कॉटन की साड़ियां खुद ही प्रेस कर सकती हैं उनमें कलफ भी घर पर ही लगा सकती हैं। ऐसे ही मनी सेविंग टिप्स आपकी बचत में इज़ाफा कर सकती है।

जोश में होश ना खोएं

ज़रूरी है कि मनी सेविंग टिप्स आप हर जगह यूज़ करें। जन्मदिन, मैरिज एनीवर्सरी तथा प्रमोशन आदि का जश्न मनाते हैं तो सोच-समझकर खर्च करें। जोश-जोश में अधिक खर्च कर देना बेवकूफी है। अपरिपक्व योजना से पैसे तो अधिक खर्च हो जाते हैं साथ ही कार्य भी ठीक प्रकार से नहीं होता है।

यदि पति की आय सीमित है सिर्फ घर का खर्च ही निकल पाता है। तब पत्नी घर में ही ट्यूशन या अतिरिक्त कलाओं से पैसा कमा सकती है। आप सिलाई-कढ़ाई वगैरह में निपुण है तो अपना बुटिक चला सकती हैं। यहां भी आपको कुछ मनी सेविंग टिप्स का उपयोग करना पड़ेगा।

इस तरह आप परिवार को खुशहाली की तरफ ले जा सकती हैं। हाउसवाइफ घर से कई कार्य स्वयं करके पैसे बचा सकती हैं। क्योंकि पैसा ही बुढ़ापे का सहारा होता है, पैसा हो तो गैर भी अपने बन जाते हैं। नहीं हो तो अपने भी गैर हो जाते हैं। सेवानिवृत्ति होने पर किसी के आश्रिती नहीं होना पड़ता और बुढ़ापा चैन से सम्मान के साथ कटता है। इसीलिए हमें पैसों की अहमियत को समझते हुए शुरुआत से ही अल्प बचत करने की आदत डालना चाहिए।

बच्चों को भी पैसे का मूल्य समझाते हुए उनमें भी बचत का गुण विकसित कर देना चाहिए। यदि हम घर के नित खर्चों से कुछ बचा पाते हैं तब निश्चित ही वह एक कमाई के बराबर ही होता है। इसीलिए कहा गया है कि ‘जो बचा लिया सो कमा लिया’।

बचत के लाभ पर आधारित ये पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे शेयर करें। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखें और पोस्ट को रेटिंग देना भी न भूलें।

फाइनेंस से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए हमारे लाइफस्टाइल सेक्शन को ज़रूर देखें। इसके अलावा आप रिश्तों को लेकर भी किसी तरह की दुविधा से गुज़र रही हों तो निरोग दर्पण के लव एंड रिलेशनशिप सेक्शन को ज़रूर विज़िट करें।