वर्क फ्रॉम होम से बदल रही है वर्क एफिशिएंसी

by | Jan 16, 2020 | Career and Profession, Lifestyle | 0 comments

करियर एंड प्रोफेशन में समय के साथ अनेक चेंजेस देखने को मिलते हैं। ये ज़रूरी भी है क्योंकि समय के साथ कार्य की प्रकृति में भी बदलाव आते हैं। इन दिनों एक शब्द वर्क फ्रॉम होम बहुत सुनने में आता है। जो लोग आजकल काम कर रहे हैं उनके लिए तो ये बहुत फायदेमंद काम है। आपको बता दें कि वर्क फ्रॉम होम में घर पर रहकर ही ऑफिस के काम को किया जा सकता है। ये काम आपके वर्किंग ऑवर्स पर ही निर्भर करता है। मतलब ऑफिस में काम करने के जो घंटे होते हैं उसी के अनुसार आपका वर्क फ्रॉम होम होता है। इस दौरान आप पॉवर नैप भी ले सकते हैं। साथ ही एक हैप्पी फीलिंग के साथ आप पूरे कम्फर्ट के साथ अपने घर में काम कर सकते हैं। इससे आपके वर्क प्रोडक्टिविटी भी बढ़ती है और काम बोरिंग भी नहीं लगता है। वैसे वर्क फ्रॉम होम दो तरीके से काम करता है। चलिए इस बारे में हम आपको पूरी जानकारी देते हैं।

वर्क फ्रॉम होम से आता है काम करने के तरीके में बदलाव

जब आपका ऑफिस आपको वर्क फ्रॉम होम की सुविधा देता है तो इससे आपके काम का पैटर्न बदलता है। इसका मतलब ये कोई खराब बात नहीं है, बल्कि इससे आपका काम बोरिंग नहीं होता है। रोज़-रोज़ वही ऑफिस जाकर काम करने से व्यक्ति ऊब जाता है। लेकिन जब वर्क फ्रॉम होम की सुविधा मिलती है तो उसकी कार्य शैली में थोड़ा परिवर्तन आता है। आराम के साथ अपने घर पर बैठकर वह ऑफिस के काम को कर सकता है।

एक दूसरा पहलू भी है वर्क फ्रॉम होम का

एक पहलू से तो आप परिचित हो ही चुके हैं। इसके अलावा वर्क फ्रॉम होम का एक दूसरा पहलू भी है। इस सुविधा के अंतर्गत आप घर पर बैठकर ही काम करके पैसे कमा सकते हैं। लेकिन ये सुविधा अधिकतर घरेलू महिलाओं और ऐसे लोगों के लिए होती है जो किसी कारण से ऑफिस नहीं जा पाते। महिलाएं जो काम भी करना चाहती हैं और घर भी संभालना चाहती हैं, उनके लिए वर्क फ्रॉम होम फायदेमंद होता है।

बढ़ जाता है आपका कम्फर्ट

अपने घर में बैठकर आराम से आप ऑफिस का काम कर सकते हैं। इसमें आपकी कम्फर्ट भी बनी रहती है और काम भी अच्छे से होता है। वैसे भी घर तो घर होता है, घर जैसी कम्फर्ट आपको कहीं और नहीं मिल सकती। आप चाहें तो थोड़ा लेटकर काम कर लीजिये। भूख लगी तो पसंद का कुछ खाकर काम कर सकते हैं। मन हुआ तो थोड़ा बाहर टहल लिए। कहने का मतलब है कि आप अपने कम्फर्ट के अनुसार कुछ भी कर सकते हैं। इस तरह से काम करने में और भी मज़ा आता है।

प्रोडक्टिविटी बढ़ती है वर्क फ्रॉम होम से

जब आपके काम के तरीके में बदलाव होता है तो इससे आपकी वर्क प्रोडक्टिविटी भी बढ़ती है। क्योंकि एक ही तरह से काम करके व्यक्ति बोर हो जाता है। लेकिन जब आपको वर्क फ्रॉम होम की सुविधा मिलती है तो आपको काम करने में ज़्यादा मज़ा आता है। इससे आपकी वर्क प्रोडक्टिविटी पर भी एक सकारात्मक प्रभाव होता है।

इस दौरान ले सकते हैं आप पॉवर नैप

हमे बताने की ज़रूरत नहीं है पॉवर नैप के फ़ायदे तो आप जानते ही हैं। एक छोटी-सी पॉवर नैप आपको बहुत जल्दी रिफ्रेश कर देती है। अब काम चाहे ऑफिस से करना हो या घर से आप सो तो नहीं सकते। मतलब घर पर भी आप आराम से सो नहीं सकते हैं काम तो आपको करना ही है। ऐसे में पॉवर नैप आपके बहुत काम आता है। इससे आपका काम भी प्रभावित नहीं होता और आपको आराम भी मिल जाता है।

एक हैप्पी फीलिंग आती है

कोई भी व्यक्ति हो उसे अपना घर भला ही लगता है। तो ऐसे में वर्क फ्रॉम होम से उन्हें हैप्पी फीलिंग ही आती है। इस तरह घर के लोगों के साथ समय बिताने का मौका भी मिल जाता है और काम भी हो जाता है। ये हैप्पी फीलिंग आपको अगले दिन के लिए भी तैयार कर देती है। किसी भी काम को करने के लिए एक शांत वातावरण और हैप्पी फीलिंग का होना ज़रूरी है।

तो अब तो आपको भी वर्क फ्रॉम होम के फ़ायदे समझ में आ गये होंगे। वर्क फ्रॉम होम पर आधारित ये पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे शेयर करें। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखें और पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें।

करियर एंड प्रोफेशन से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए हमारे लाइफस्टाइल सेक्शन को ज़रूर देखें। इसके अलावा आप फिटनेस के बारे में कोई जानकारी चाहते हैं तो निरोग दर्पण के डाइट एंड फिटनेस सेक्शन को ज़रूर विज़िट करें।