बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए उन्हें ऑप्टिमिस्टिक बनायें

by | Oct 11, 2019 | Love & Life, Parenting | 0 comments

ये बात तो सही है कि पेरेंटिंग कोई आसान काम नहीं है। कहने का अर्थ है कि बच्चों को परवरिश सही तरीके से हो इसके लिए प्रयास करना पड़ता है। केवल जन्म देने मात्र से आप माता-पिता नहीं बनते हैं। बल्कि इसके बाद तो आपकी असली परीक्षा शुरू होती है। लेकिन फिर भी पेरेंट्स के मन में ये बात तो आती ही है कि बच्चों का पालन कैसे किया जाये? आपके बच्चे आगे जाकर क्या करेंगे ये तो पता नहीं, लेकिन ज़रूरी है कि उन्हें ऑप्टिमिस्टिक बनाया जाये। जी हां आपके बच्चे जितने अधिक आशावान होंगे, उनका भविष्य भी उतना ही सुनहरा होगा। क्योंकि जो बच्चे जीवन के प्रति पॉजिटिव सोच रखते हैं वो हमेशा सफल रहते हैं। ज़रूरी है कि आप उनके कामों के लिए उन्हें एप्रिशिएट करें। इससे वो अच्छे कामों और हार्ड वर्क के लिए प्रेरित होंगे। उनके मन में जो छोटे-छोटे फियर हैं वो दूर हों। क्योंकि मन के डर बच्चों को आगे बढ़ने से रोकते हैं। ऐसे ही आप हर ख़ुशी का सेलिब्रेशन मनाइये। इससे आपके परिवार में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहेगी। आइये इस विषय पर थोड़ा और प्रकाश डाला जाये।

ऑप्टिमिस्टिक बच्चे करते हैं बेहतर काम

जिन बच्चों के मन आशा से भरपूर होते हैं, वो हर काम अच्छे से करते हैं। ऑप्टिमिस्टिक होना वैसे कोई आसान बात नहीं होती है, इसके लिए मेहनत करना पड़ता है। ये बात तब और मुश्किल हो जाती है जब आपको अपने साथ बच्चों को भी ऑप्टिमिस्टिक बनाना हो। लेकिन आपके बच्चों के मन में पलने वाली हर एक उम्मीद को निराशा में बदलने से रोकना चाहिए।

आप बनेंगे ऑप्टिमिस्टिक तभी तो बच्चे भी बनेंगे

आप अपने बच्चों को ऑप्टिमिस्टिक बनाना चाहते हैं तो पहले आपको भी आशावादी होना पड़ेगा। क्योंकि अगर आपके मन में ही निराशा और भय रहेगा तो आप बच्चों को क्या सिखायेंगे। हर अच्छे काम की शुरुआत पहले अपने भीतर से ही होनी चाहिए। पेरेंट्स को देखकर ही तो बच्चे सीखते हैं।

बच्चों के हर फियर को दूर करने की कोशिश कीजिये

सबसे पहले तो प्रयास ये ही करना चाहिए कि बच्चे के हर तरह के फियर दूर हों। क्योंकि फियर आपके बच्चे को आगे बढ़ने से रोकता है। देखा जाता है कि बहुत बार पेरेंट्स ही अपने बच्चों के मन में हार का फियर पैदा कर देते हैं। वह उन्हें हर काम के लिए टोकते हैं और एप्रिशिएट करने की बजाय डराते हैं। माना कि बच्चों में थोड़ा फियर होना चाहिए। लेकिन इतना भी नहीं कि उस फियर के कारण वो हर बात से कतरायें।

पॉजिटिव एप्रोच है ज़रूरी

प्रयास करें कि अपने बच्चे में आप पॉजिटिव थिंकिंग को बढ़ाएं। वह छोटी-छोटी बातों से हारना न सीखे। क्योंकि एक बार आपके बच्चे में नेगेटिविटी ने घर कर लिया तो मुश्किल हो सकती है। बच्चा जितना अधिक पॉजिटिव होगा, उतना ही अच्छा होगा। उसे ये विश्वास दिलाएं कि वह जितना पॉजिटिव रहेगा, सफलता की उम्मीदें भी उतनी ही बढेंगी।

हर छोटी सफलता को एप्रिशिएट करें

अक्सर देखा जाता है कि पेरेंट्स बच्चों को एप्रिशिएट करने में कंजूसी करते हैं। इससे बच्चा निराश होने लगता है। उसे लगता है कि वह कोई अच्छा काम कर ही नहीं सकता है। लेकिन अगर आप उसे एप्रिशिएट करते रहेंगे तो वह अधिक ऑप्टिमिस्टिक बनेगा। वैसे ये बात सभी पर लागू होती है। बड़ों को भी एप्रिशिएट करने से उनकी कार्यक्षमता पर भी असर होता है। फिर बच्चों पर तो इसका कितना अच्छा असर होगा, सोचिये।

सेलिब्रेशन से बढ़ता है बच्चों का उत्साह

जी हां, सेलिब्रेशन आपके जीवन में एकदम से बदलाव लाते हैं। आपके बच्चों पर भी इनका अच्छा असर होता है। अब आप सेलिब्रेशन मतलब सिर्फ त्यौहारों का सेलिब्रेशन मत समझ बैठिये। यहां सेलिब्रेशन से तात्पर्य हर उस सफलता को सेलिब्रेट करना है जो आपका बच्चा हासिल करता है। अपने बच्चों के साथ खूब नाचें और गायें। इससे बच्चों के मन में पॉजिटिविटी बढ़ती है। इससे आपके परिवार में भी बहुत अच्छा वातावरण बना रहेगा। ऐसे माहौल में बच्चे का भी अच्छे से विकास होगा और वह सफलता के पायदान चढ़ता जायेगा।

हार्ड वर्क का कोई विकल्प नहीं

कोशिश कीजिये कि आप अपने बच्चे को हार्ड वर्क के लिए प्रोत्साहित करें। क्योंकि आपके बच्चे में हार्ड वर्क की आदत नहीं डलेगी तो आगे जाकर उसे समस्या आएगी। शुरू से ही बच्चे को हार्ड वर्क की आदत हो जायेगी तो उसका भविष्य सुधर जायेगा। हार्ड वर्क बच्चे को अधिक ऑप्टिमिस्टिक बनाता है। भविष्य में आने वाली हर चुनौती हो वह स्वीकार कर लेता है। क्योंकि उसे पता होता है कि अपने हार्ड वर्क की बदौलत उसे सफलता ज़रूर मिलेगी।

तो आप भी अपने बच्चे को ऑप्टिमिस्टिक ज़रूर बनाइये और फिर देखिये उसके सुखद परिणाम। पेरेंटिंग पर आधारित ये पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे शेयर करें। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखें और पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें।

पेरेंटिंग से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए हमारे लव एंड लाइफ सेक्शन को ज़रूर देखें। इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए निरोग दर्पण के प्रेग्नेंसी एंड पेरेंटिंग सेक्शन को भी ज़रूर विज़िट करें।