अगर आप नॉर्मल डिलीवरी चाहती हैं तो अपनाने होंगे ये उपाय

by | Aug 8, 2020 | Love & Life, Parenting | 0 comments

पैरेंटिंग के पहले एक सबसे बड़ी परीक्षा होती है बच्चे के जन्म को लेकर। हर महिला यही चाहती है कि उसकी नॉर्मल डिलीवरी हो। लेकिन सबकी ये इच्छा पूरी नहीं हो पाती है। पहले के समय में अधिकतर महिलाओं की नॉर्मल डिलीवरी ही होती थी। क्योंकि उस समय हाउस वर्क ज़्यादातर महिलाएं खुद करती थीं। वो मशीनों पर निर्भर नहीं करती थीं। इससे उनकी डिलीवरी में बहुत समस्या नहीं आती थी। लेकिन आजकल ऐसा नहीं है। इसलिए आप चाहती हैं कि आपकी भी नॉर्मल डिलीवरी हो तो आप हेल्दी डाइट लीजिये। साथ ही रोज़ 1 घण्टा सुबह और 1 घण्टा रात को वॉक कीजिये। कुछ सिंपल एक्सरसाइज़ और मेडिटेशन भी आपको गर्भावस्था में स्वस्थ रखेंगे। यही नहीं इससे नॉर्मल डिलीवरी की संभावनाएं बढ़ जाएंगी। आइये इस बारे में आपको और जानकारी देते हैं।

हर डिलीवरी नॉर्मल डिलीवरी हो ये ज़रूरी नहीं

भले ही आप ये सोचें कि हमारी नॉर्मल डिलीवरी हो जाये, लेकिन कहा जाता है कि हर डिलीवरी अलग होती है। मतलब अगर किसी अन्य महिला को देखकर आप सोचें कि हमारे साथ भी ऐसा हो तो ये ज़रुरी नहीं है। हो सकता है डिलीवरी के समय कोई कॉम्प्लिकेशन हो जाये। खैर ये सब बातें सोचने की जगह प्रेग्नेंसी में अपना अच्छे से ध्यान रखिये। किसी को देखकर या सुनकर आप कोई डिसीजन मत लीजिये। जैसा आपको डॉक्टर सलाह दें उसका पालन करें।

नॉर्मल डिलीवरी के लिए हमेशा हाइड्रेटेड रहें

वैसे तो हाइड्रेटेड रहना हमेशा आवश्यक है, लेकिन प्रेग्नेंसी में तो ये और भी ज़रूरी हो जाता है। अगर आप अधिक से अधिक लिक्विड डाइट लेंगी तो इससे आपका डाइजेशन भी अच्छा रहेगा और नॉर्मल डिलीवरी की संभावना भी बढ़ जाएगी। साथ ही आप 8 से 10 ग्लास पानी का सेवन भी कीजिये। लेकिन अक्सर महिलाएं इस बात का ध्यान नहीं रखती हैं। न तो हेल्दी डाइट लेती हैं और न ही पर्याप्त लिक्विड। इससे नॉर्मल डिलीवरी होने में परेशानी आ सकती है।

हेल्दी डाइट से होता है लाभ

देखिये आपकी प्रेग्नेंसी एक बहुत ही महत्वपूर्ण समय होता है। ऐसे में आपकी डाइट में भी बहुत सारे बदलाव होने चाहिए। आपको हेल्दी डाइट को ही प्रिफर करना चाहिए। वैसे इस समय महिलाओं का मन कुछ चटपटा, मज़ेदार खाने का होता है। इसलिए आप अपने मन को मत मारिये। लेकिन हेल्दी डाइट का साथ भी मत छोड़िए। इसके अलावा जो भी आपको खाना हो वह घर पर बनाकर खाइये। बाहर का खाना इस समय अवॉयड कीजिये। हेल्दी डाइट से आपको सही पोषण मिलता है। इससे होने वाले बच्चे को भी लाभ मिलता है और नॉर्मल डिलीवरी की उम्मीद भी बढ़ती है।

सिंपल एक्सरसाइज़ से शरीर को स्वस्थ रखें

प्रेग्नेंसी में आपको कुछ सिंपल एक्सरसाइज़ करते रहना चाहिए। इससे शरीर की कार्यक्षमता बढ़ती है। लेकिन ध्यान रखें कि आप सिंपल एक्सरसाइज़ ही करें। भारी एक्सरसाइज़ आपको तकलीफ दे सकती है। किसी एक्सपर्ट से पूछकर सिंपल एक्सरसाइज़ का चुनाव करें। लेकिन अगर आपको डॉक्टर ने मना किया है तो फिर किसी भी तरह की एक्सरसाइज़ न करें। नॉर्मल डिलीवरी में एक्सरसाइज़ का बहुत बड़ा योगदान होता है।

हाउस वर्क करते रहने से शरीर एक्टिव रहता है

जैसा हमने आपको बताया कि पहले महिलाएं हर हाउस वर्क खुद करती थीं। इससे वह पूरे समय एक्टिव रहती थीं। अब तो ज़्यादातर हाउस वर्क कामवाली हेल्पर के हाथों से होता है। क्योंकि महिलाओं को इतने काम की आदत नहीं होती है। इसके अलावा मशीनों का अधिक प्रयोग भी हाउस वर्क में महिलाओं के लिए ज़रूरी हो जाता है। तो ऐसे में शरीर की निष्क्रियता बढ़ती है। इसलिए आप थोड़ा-थोड़ा काम खुद से भी कीजिये। इससे आपका मन भी लगा रहेगा और आपकी डिलीवरी में भी इसका लाभ मिलेगा।

वॉक को नियमित करें

आपको अपनी प्रेग्नेंसी में कुछ नियम तो बनाने ही होंगे, जैसे वॉक को रेग्युलर करना। वैसे भी वॉक के बहुत सारे फायदे होते हैं। यहां तक कि डिलीवरी के पहले भी डॉक्टर महिलाओं को कुछ देर वॉक करवाते हैं। तो आप भी डॉक्टर से सलाह लेकर वॉक को रेग्युलर कर दीजिए। इससे नॉर्मल डिलीवरी के चांसेस बढ़ जाते हैं। इसके अलावा आप तनाव से दूर रहने के लिए मेडिटेशन भी कर सकती हैं । इससे आपको मानसिक शांति मिलेगी।

तो ये सब उपाय अपनाकर आप बहुत हद तक नॉर्मल डिलीवरी को मुमकिन बना सकती हैं।

नॉर्मल डिलीवरी के तरीकों पर आधारित ये पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे शेयर करें। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखें और पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें।

पैरेंटिंग से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए हमारे लव एंड लाइफ सेक्शन को देखें। इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए निरोग दर्पण के प्रेग्नेंसी एंड पैरेंटिंग सेक्शन को विज़िट करना न भूलें।